किताबों की तरह बहुत से 2 Line Shayari

किताबों की तरह बहुत से अलफ़ाज़ हैं मुझ में,
और किताबों की तरह ही में खामोश रहता हूँ…!!